मंगलवार, 9 मार्च 2010

देश प्रेम

एक बार सरदार किशन सिंह ने अपने खेत में आम के कुछ पौधे लगाए थे। एक दिन वह अपने 3-4 साल के लड़के को साथ लेकर पौधों का मुआयना कर रहे थे । लड़का वहीं खेलने लगा । खेलते-खेलते उसने मिट्टी में कुछ गाड़ा और 2-4 पौधे खड़े कर दिए । यह देख कर पिता ने पूछा, ''यह क्या कर रहे हो ?'' बेटे ने जवाब दिया,'' बदूकें बो रहा हूं, जब ये आप के आमों की तरह बड़ी हो जाएंगी तो इनसे अंग्रेंजो को मारूंगा ।''
यही बालक बाद में सरदार भगत सिंह बना, जिसने अपने जीते जी कभी अंग्रेंजो को चैन से नहीं सोने दिया ।

5 टिप्‍पणियां:

darshan ने कहा…

प्रेरणा

पं.डी.के.शर्मा"वत्स" ने कहा…

वाह्! इसे कहते हैं पूत के पाँव पालने में ही दिख जाना...शहीद-ए-अजम भगत सिँह पर ये कहावत बिल्कुल फिट बैठती है!
बहुत बढिया!

चन्द्र कुमार सोनी ने कहा…

मुझे यह बात कहनी नहीं चाहिए, लेकिन दुखी-हर्दय से कह रहा हूँ.
"आज सब लोग भगत सिंह को चाहते तो जरूर हैं. लेकिन, ये चाहते हैं कि-भगत सिंह पडोसी या किसी और के घर पैदा हो. नाकि खुद के घर में पैदा हो.
यही देश का दुर्भाग्य हैं.
thanks.
WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

क्रांतिकारी हिन्दोस्तानी देशभक्त ने कहा…

सही कहा चन्द्र कुमार सोनी जी ने लोग अपनी गाड़ियों पर भगत सिंह की फोटो लगा के फिरते हैं सरकारी दफ्तरों में लोग तिरंगा अपने टेबल पर रखते हैं उन लोगों को सही मायने में इन दोनों का अर्थ आज तक किसी ने सिखाय ही नहीं तो वो क्या जाने
काश वो इनका मतलब समाज सकें इतनी सद्बुबुद्दी डे दो भगवान
www.krantikarideshsevak.blogspot.com

hemat indian ने कहा…

jo bhi is ka matlab samjta hai krpya contact kare - 9268461610
jo bhi un ke trha kuch karna chata hai contact kare baate karne se kuch nahi hota jo bhagat singh ji ne kiya wo hum bhi kar sakte hai 16 augst ko hum sab ko anna hazare ji ke sath kadha hona hai