बुधवार, 7 अप्रैल 2010

गहरी नींद

गहरी नींद में सोते हुए नेपोलियन को उस के सेनापति ने मध्य रात्रि में जगाया और दक्षिणी मोरचे पर शत्रु द्वारा अचानक हमला किए जाने की खबर दी, नेपोलियन आंखें मलते हुए उठा और दीवार पर टंगे 34 नंबर के नकशे को उतारते हुए बोला, इस में बताए हुए तरीके के अनुसार काम करो।
सेनतापति चकित रह गया कि जिस हमले का उसे अनुमान तक न था, उस हमले की संभावना को नेपोलियन ने समय से पूर्व ही कैसे सोच लिया और कैसे उस का प्रतिकाल खोल लिया, सेनापति को आश्चर्यचकित देख कर नेपोलियन ने कहा, ''विचारशील लोग अच्छी से अच्छी आशा करते हैं, किन्तु बुरी से बुरी परिस्थिति के लिए भी तैयार रहते हैं, मेरी मनः स्थिति सदा ऐसी ही रही है, इसलिए मुझे विपति आने से पहले ही उस का अनुमान लगाने और उपाय सोचने में संकोच नहीं होता ।

6 टिप्‍पणियां:

दिलीप ने कहा…

Dhanyawad is prerak prasang ke liye...

Jandunia ने कहा…

इस बात से सीख लेने की जरूरत है।

Udan Tashtari ने कहा…

सीखने योग्य!!

चन्द्र कुमार सोनी ने कहा…

prernaa-daayi lekh ke liye dhanyawaad.
aaj ki yuvaa pidi ke liye vishesh roop se ye lekh seekh de saktaa hain, jo ghode bechkar sote hain.
thanks.
WWW.CHANDERKSONI.BLOGSPOT.COM

JHAROKHA ने कहा…

Achchha prerak prasang----.

Rajendra Sharma. ने कहा…

Ise se achhi seekh milti hai.