शनिवार, 14 नवंबर 2009

अपराध

मुगल बादशाह बहादुरशाह जफर अंग्रेजों की कैद में अपने जीवन के अंतिम दिन बड़े कष्ट से बिता रहे थे । एक बार एक व्यक्ति उनसे मिलने आया। उसने बादशाह से कहा, ''आप को जो कष्ट दिए जा रहे हैं, आप उसकी शिकायत क्यों नहीं करते ?''
उन्होंने दुःख भरे स्वर में जवाब दिया, '' मेरी यही सजा है क्योंकि बादशाह होने के नाते में देश का पहरेदार था । फिर भी मैं आराम की नींद सोता रहा । समय रहते न तो मैं जागा और न ही दुश्मन को ललकारा, इससे बड़ा अपराध और क्या हो सकता है ?''

3 टिप्‍पणियां:

Nirmla Kapila ने कहा…

सुन्दर बोध कथा धन्यवाद्

चन्द्र कुमार सोनी ने कहा…

bahut badhiyaa likhte hain aap.
kya aap mujhe bataa sakte hain ki-mujhe koi prernaa-daayi kitaab kahaan-kab-or kaise mil sakti hain????
thanks.

दिनेश शर्मा ने कहा…

सोनी जी
प्रेरक प्रसंग के लिए आप समाचार-पत्र तथा पत्रिकाएं नियमित पढ सकते हैं । इसके अलावा बाजार में ऎसी पुस्तकें भी उपलब्ध हैं ।