मंगलवार, 17 मई 2011

समय का मूल्य

अमरीका के प्रथम राष्ट्रपति जार्ज वाशिंगटन के समय की पाबंदी का विश्व भर में उदाहरणस्वरूप प्रयोग किया जाता है । वह समय का मूल्य जानते थे । अतः सदैव अपने एक एक पल का सदुपयोग करते थे । एक बार उन्होंने अपने कुछ मित्रों को भोजन पर निमंत्रित किया । समय दिन के 3 बजे का था। संयोगवश मेहमान समय पर नहीं आए तो उन्होंने भोजन करना शुरू कर दिया । कुछ ही मिनटों की देरी से आने वाले मेहमानों को यह देख कर बहुत बुरा लगा। जार्ज वाशिंगटन ने कहा, ''क्षमा कीजिए । खाना मेज पर लगाने से पूर्व मेरा रसोइया मुझ से यह नहीं पूछता कि मेहमान आए या नहीं वह केवल यह पूछता है कि समय हुआ या नहीं?'' उनकी यह बात सुनते ही मेहमान लज्जित हो गए।

6 टिप्‍पणियां:

Deepak Saini ने कहा…

समय अमूल्य है और ये किसी का इंतज़ार भी नहीं करता

संजय @ मो सम कौन ? ने कहा…

समय प्रबंधन बहुत आवश्यक है।

anshumala ने कहा…

यदि समय की कीमत हम सभी जान जाये तो बहुत से कष्टों से बच सकते है |

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार ने कहा…

दिनेश शर्मा जी


प्रेरक प्रसंग और सुंदर ब्लॉग के लिए आभार और बधाई !

जो समय का लिहाज नहीं करता , समय उसका लिहाज नहीं करता !

हार्दिक शुभकामनाओं सहित
- राजेन्द्र स्वर्णकार

अनूषा ने कहा…

आपका ब्लॉग अपने नाम को सार्थक कर रहा है. प्रस्तुति व सामग्री दोनों ही श्रेष्ठ हैं.

संजय भास्कर ने कहा…

समय अमूल्य है