सोमवार, 2 मई 2011

आत्म-विश्वास

उन दिनों पेले फुटबाल के नए-नए खिलाड़ी के रूप में उभरे थे । एक बार वह एक जगह मैच खेलने गए । मैच के दौरान उन्होंने एक बाल गोल पोस्ट पर दागी परंतु गोल नहीं हुआ तब उन्होंने शर्त ठोंक दी, ''मैंने 300 के कोण से बाल मारा और गोल हुआ कैसे नहीं ?'' जबरदस्त विश्वास था उनके कथन में और जब पोल नापा गया तो पोल सचमुच टेढ़ा था ।

3 टिप्‍पणियां:

संजय @ मो सम कौन ? ने कहा…

जिन्हें खुद पर विश्वास होता है, वही कुछ करने योग्य काम करते हैं वरना खाना-पीना, सोना, भोगना तो सभी कर लेते हैं।

anshumala ने कहा…

आत्मविश्वास तो अच्छी चीज है बस वो अति न हो |

Patali-The-Village ने कहा…

जिन्हें खुद पर विश्वास होता है, वही कुछ करने योग्य काम करते हैं|धन्यवाद|