रविवार, 5 जुलाई 2009

झूठा अभिमान

आल्सिबाइडिस एक संपन्न जमींदार था उसे अपनी संपत्ति और जागीर पर बड़ा गर्व था एक दिन उसने सुकरात के पास जा कर अपने ऐश्वर्य का वर्णन करना आरंभ कर दिया सुकरात चुपचाप उस की बात सुनता रहा थोड़ी देर बाद उसने पृथ्वी का एक नक्शा मंगवाया वह नक्शा फैला कर जमींदार से बोला,'' इस में अपना यूनान देश कहां हैं ?'' यह रहा यूनान| जमींदार ने नक्शे पर एक स्थान पर उंगली रखते हुए कहा। और अपना ऐटिका प्रांत कहां है ? सुकरात ने पूछा जमींदार अपने छोटे से प्रांत को बड़ी कठिनाई से ढूंढ सका सुकरात ने उस से फिर पूछा-इसमें आपकी जागीर कहां है?नक्शे में इतनी छोटी जागीर कैसे दिखाई जा सकती है ? जमींदार बोला इस पर सुकरात ने कहा, भाई, जिस भूमि के लिए इतने बड़े नक्शे में एक बिंदु भी नहीं रखा जा सकता, उस थोड़ी सी भूमि पर तुम गर्व करते हो ? इस पूरे ब्रह्मांड में तुम्हारी भूमि और तुम कहां हो, कितने बड़े हो ? जरा यह सोचो | फिर यह गर्व किस बात पर ?

2 टिप्‍पणियां:

गिरिजेश राव ने कहा…

धन्य सुकरात। औकात बता दी।

Pt.डी.के.शर्मा"वत्स" ने कहा…

शायद हम सब में ही कहीं न कहीं एक आल्सिबाइडिस छुपा हुआ है...... प्रेरक प्रसंग के लिए आपका आभार।