रविवार, 23 अगस्त 2009

देश भक्त

फ्रांस की एक नदी में वर्षा के कारण बाढ़ आई हुई थी शाम के वक्त लगभग 12 वर्ष का एक लड़का नदी के किनारे-किनारे चला जा रहा था अचानक उसने देखा कि नदी के बांध में एक जगह छेद हो गया है और उसमें से पानी रिस रहा है इस तरह तो पूरा नगर पानी में डूब जाएगा|'' यह सोच कर उसने छेद वाली जगह पर भरपूर मिट्टी डाल दी लेकिन पानी के अधिक वेग के कारण मिट्टी रूक नहीं सकी उध छेद बड़ा होता जा रहा था नगर में जाकर सूचना देने में देर हो जाती, क्योंकि तब तक बाँध टूट सकता था, यह सोच कर लड़का स्वयं छेद वाली जगह में लेट गया पूरी रात इसी तरह बीत गई उध लड़के के माता-पिता बहुत चिंतित थे। उन्हें डर था कि नदी के किनारे चलते हुए उन का लड़का नदी में गिर गया हो वे सुबह होते ही नदी के किनारे-किनारे चल पड़े लड़के ने उन्हें देखा तो चिल्ला कर अपने पास बुलाया और पानी रोकने का इंतजाम करने को कहा। उसके माता-पिता ने नगर में जाकर इस बात की सूचना दी तो शीघ्र ही आवश्यक प्रबंध किए गए बालक की इस वीरता और देशभक्ति पर सरकार ने उसे सम्मानित किया। यही बालक आगे चलकर फ्रांस का राष्ट्रपति बना इस देशभक्त का नाम था - नेपोलियन

5 टिप्‍पणियां:

Udan Tashtari ने कहा…

प्रेरक कथा. आभार!!

RAJNISH PARIHAR ने कहा…

बहुत बार पढने पर भी हर बार प्रेरणा देती है ये कथा....

ACHARYAJI KAHI ने कहा…

yehi ghatana aaruni ki bhi h. Aap uska varnana karte to aur achchha lagta. Bharat ne gyan banta logo ne use kiya. bharat ne kitabo ko sambhal kar rakha kyonki yaha deemak ka dar h. Suraksha nahi kahi rat na kha jaye.
So sanskriti ka dhayana kare.

दिनेश शर्मा ने कहा…

आचार्य जी
आपने बहुत सही कहा । हमारा भारत विश्व गुरु है ।
वस्तुतः ये एक प्रेरक प्रसंग की बात है अन्यथा मैं स्वयं देश और संस्कृति का सम्मान करता हूं । जिसका आभास आपको मेरा ब्लाग www.amansandesh.blogspot.com पढने से हो जायेगा । मार्गदर्शन के लिए धन्यवाद ।

रज़िया "राज़" ने कहा…

काश! सब देशवासी ऐसी कथाओं से सीख लें। प्रेरणा के लिये आभार।