शनिवार, 12 सितंबर 2009

निडर

एक बार सुभाषचन्द्र बोस एक अंग्रेज मित्र के साथ इंग्लैंड की एक सड़क पर चले जा रहे थे । तभी एक पालिश करने वाले अंग्रेज युवक ने उनके पास आ कर पूछा, ''साहब, पालिश कराइएगा?'' सुभाष बोस ने एक नजर अपने चमचमाते जूतों की ओर डाली, फिर जूते आगे बढ़ा दिए । पालिश करा के जब सुभाष चन्द्र कुछ आगे बढ़े तो एक अन्य अंग्रेज युवक ने उन से पूछा, ''साहब, पालिश कराइएगा?'' सुभाष बोस ने पुनः अपने जूते आगे बढ़ा दिए । यह देख कर उनके अंग्रेज मित्र ने पूछा, ''सुभाष, अभी थोड़ी देर पहले ही तो तुम ने जूते पालिश कराए हैं, फिर दोबारा पालिश क्यों करा रहे हो?'' सुभाष बोस ने निर्भीकता से जवाब दिया, बात यह है दोस्त कि अंग्रेजों से अपने जूतों पर पालिश कराते समय मेरा सिर गर्व से उंचा हो जाता है ।''

3 टिप्‍पणियां:

संजय तिवारी ’संजू’ ने कहा…

आपकी लेखन शैली का कायल हूँ. बधाई.

Udan Tashtari ने कहा…

सही है!

Nirmla Kapila ने कहा…

बहुत सार्गर्भित प्रसंग हैाभार्